January 23, 2020

जरुरत से ज्यादा पानी पीना हो सकता है खतरनाक (drinking too much water can be dangerous )

संक्षेप में :

हमारा किडनी एक दिन में 800 – 1000 मिलीलीटर पानी प्रति घंटा ही प्रोसेस कर पता है। इससे ज्यादा पानी पीने से वाटर इंटोक्सिकेशन (water intoxication ) कि शिकायत हो सकती है।

देखा गया है की एक स्वस्थ्य इंसान को तीन से चार लीटर पानी प्रतिदिन आवश्यक होती है।

किडनी कि स्वस्थता बनाये रखने के लिए पानी तभी पिए जब प्यास लगे।

कहा जाता है जल ही जीवन है लेकिन पानी आपके जीवन के ले लिए खतरनाक भी हो सकता है अगर इसे जरुरत से ज्यादा लिया जाये तो।

किडनी (गुर्दा)

हम सभी भली भांति परिचित है की किडनी/गुर्दा (चित्र बांए तरफ) हमारे शरीर का अतिरिक्त पानी हमारे रक्त धाराओं से साफ़ करता है। लेकिन किडनी कितने मात्रा का पानी एक दिन में प्रोसेस कर सकता है इसका भी एक लिमिट है। यह लिमिट 800 – 1000 मिलीलीटर प्रति घंटा है। प्रति घंटे अगर इस लिमिट से ज्यादा पानी पिया जाए तो यह असुविधा का कारण बन सकती है।

ज्यादा पानी पीने से क्या होता है

लिमिट से ज्यादा पानी पीने पर किडनी उसे प्रोसेस नहीं कर पाता जो कि फिर कोशिकाओं तक पहुंचता है। सामान्यतः कोशिका के बाहर सोडियम और पानी का एक संतुलित घोल होता है। ज्यादा पानी इस सोडियम घोल को पतला कर देता है जिससे कोशिका इसका संतुलन बनाये रखने के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी सोखता है। फलस्वरूप कोशिका में सूजन हो जाता है। ऐसे हालात को वॉटर इंटोक्सिकेशन (water intoxication) कहा जाता है। कुछ हद तक कोशिकाएं सूजन को सह पाते है लेकिन मस्तिस्क में ऐसा नहीं होता। खोपड़ी हड्डियों से बने होने के कारण मस्तिस्क में कोशिकाओं का सूजन होने से सिर पर दबाव बनता है। सिर दर्द होना या उल्टी लगना वाटर इंटोक्सिकेशन के कुछ शुरुआती लक्षण है। यह ज्यादा सीवियर होने से ब्लड प्रेशर बढ़ता है , नींद लगती है और साँस लेने में परेशानी हो सकती है।

शुरू शुरू में इसके कारण सिर भारी भारी या नींद लगता है लेकिन सिर पर दबाव ज्यादा होने से ब्रेन डैमेज या कोमा या सीधा मौत होने का शंभावना होता है। खास कर मैराथन दौड़ने वालों को पानी पीने के मामले में ज्यादा सचेत रहने की आवश्यकता है। छह में से एक मैराथन रनर्स में वॉटर इंटोक्सिकेशन (water intoxication) की शिकायत पाया गया है। क्यूंकि वे अपने किडनी पर सामान्य व्यक्ति से ज्यादा तनाव डालते है जिससे उनके शरीर में पानी अच्छे से फ़िल्टर नहीं हो पाता और जो बाद में कोशिकाओं तक जाती है। लेकिन ऐसा सभी लोगों में होना उतना सामान्य नहीं है, जिनके किडनी में पहले ही शिकायत है उनके साथ हो सकता है।

शरीर को कितना पानी चाहिए

ऐसा कोई निश्चित मात्रा नहीं है जितना पानी हमें एक दिन में पीना चाहिए।यह सभी के लिए अलग अलग है।एक व्यक्ति को कितना पानी चाहिए यह उसके शरीर का वजन , शारीरिक गतिविधि और आस पास के वातावरण पर भी निर्भर करता है। देखा गया है की एक स्वस्थ्य इंसान को तीन से चार लीटर पानी प्रतिदिन आवश्यक होती है। इसमें अन्य प्रकार के खाद्य पदार्थों से मिलने वाला पानी भी शामिल है। इसीलिए हमें पानी तभी पीना चाहिए जब प्यास लगे। लेकिन एथलीट्स , वृद्ध और गर्भवती महिलाओं को ज्यादा पानी पीने की आवश्यकता होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.